Fast and Secured Transmission of Electronic Records (Faster system) फास्टर सिस्टम क्या है? पूरी जानकारी

Fast and Secured Transmission of Electronic Records
Fast and Secured Transmission of Electronic Records 

जीवन, गरिमा और व्यक्तिगत स्वतंत्रता के मौलिक अधिकारों को बढ़ावा देने के लिए, सर्वोच्च न्यायालय ने एक नई प्रणाली शुरू की है जिसके द्वारा जमानत और गिरफ्तारी के आदेश सहित अपने महत्वपूर्ण निर्णयों को इलेक्ट्रॉनिक रूप से जेल अधिकारियों और जांच एजेंसियों को एक सुरक्षित चैनल के माध्यम से सूचित किया जा सके। 

 भारत के मुख्य न्यायाधीश एन.वी. रमना के नेतृत्व वाली एक विशेष पीठ द्वारा 16 जुलाई को एक आदेश के बाद, शीर्ष अदालत ने “Fast and Secured Transmission of Electronic Records” (फास्टर) प्रणाली शुरू की है।

इस तरह के आदेशों के संचार में देरी के कारण जमानत के आदेश पारित होने के बावजूद रिहा नहीं होने वाले जेलों में कैदियों की दुर्दशा के बारे में चिंता व्यक्त करते हुए, सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को FASTER SYSTEM (इलेक्ट्रॉनिक रिकॉर्ड्स का फास्ट एंड सिक्योर ट्रांसमिशन) नामक एक इलेक्ट्रॉनिक प्रणाली के उपयोग को मंजूरी दे दी। 

भारत के मुख्य न्यायाधीश एनवी रमना की अध्यक्षता वाली पीठ ने कहा, “अदालत के आदेशों के कुशल प्रसारण के लिए सूचना और संचार प्रौद्योगिकी उपकरणों का उपयोग करने का समय आ गया है।”

 इसको भी पढ़ें:- अनुच्छेद 21 Article 21 Of Indian Constitution In Hindi

क्या है FASTER SYSTEM? 

यह प्रणाली यह सुनिश्चित करने के लिए है कि विचाराधीन कैदियों को सलाखों के पीछे रिहा होने के लिए कई दिनों तक इंतजार नहीं करना पड़े, क्योंकि उनके जमानत आदेशों की प्रमाणित हार्ड कॉपी जेल प्रशासन के पहुंचने में देर से पहुंचती है। 
पीठ ने कहा है कि व्यवस्था को शामिल करने के लिए भारत के सर्वोच्च न्यायालय के नियमों और प्रक्रिया में अपेक्षित संशोधन को प्रशासनिक पक्ष में लिया जाएगा।
 प्रधान न्यायाधीश रमना, न्यायमूर्ति नागेश्वर राव और न्यायमूर्ति सूर्यकांत की पीठ ने जमानत मिलने के बाद कैदियों की रिहाई में देरी की समस्या के समाधान के लिए स्वत: संज्ञान लेने के मामले में निर्देश जारी किया है।
Faster  (इलेक्ट्रॉनिक रिकॉर्ड का तेज़ और सुरक्षित ट्रांसमिशन) system एक सुरक्षित इलेक्ट्रॉनिक संचार चैनल के माध्यम से अनुपालन और उचित निष्पादन के लिए अंतरिम आदेशों, स्थगन आदेशों, जमानत आदेशों और कार्यवाही के रिकॉर्ड की E-authenticated copies के प्रसारण का प्रस्ताव करता है।  

सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को लागू करना होगा FASTER SYSTEM 

इस संबंध में, बेंच ने सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के जेलों के महानिदेशक या महानिरीक्षक के साथ महानिदेशक, राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केंद्र, सचिव (गृह) को FASTER प्रणाली के सुचारू और सफल कार्यान्वयन को सुनिश्चित करने और सर्वोच्च न्यायालय की रजिस्ट्री के साथ समन्वय करने का निर्देश दिया है।  
 बेंच ने सभी ड्यूटी-होल्डर्स को अपने नियमों/प्रक्रिया/अभ्यास/निर्देशों में संशोधन करने का निर्देश दिया है, ताकि उन्हें शीर्ष अदालत के आदेश की ई-प्रमाणित प्रति को फास्टर सिस्टम के माध्यम से मान्यता दी जा सके और उसमें निहित निर्देशों का पालन किया जा सके।
सर्वोच्च न्यायालय ने सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के मुख्य सचिवों को प्रत्येक जेल में पर्याप्त गति के साथ इंटरनेट सुविधा की उपलब्धता सुनिश्चित करने और जहां कहीं भी इंटरनेट सुविधा उपलब्ध नहीं है, वहां शीघ्रता से इंटरनेट सुविधा की व्यवस्था करने के लिए आवश्यक कदम उठाने का निर्देश दिया है। तब तक, राज्य सरकारों के नोडल अधिकारियों के माध्यम से FASTER प्रणाली के तहत संचार करने का निर्देश दिया जाता है।
 कोर्ट ने सुप्रीम कोर्ट के महासचिव द्वारा प्रस्तुत प्रस्ताव को लागू करने के लिए तौर-तरीकों और पूर्व-आवश्यकताओं और सिस्टम के कार्यान्वयन के लिए पूर्व-आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए समय-सीमा का सुझाव देने के बाद तेजी से प्रणाली के कार्यान्वयन का निर्देश दिया है।

इसको भी पढ़ें:- Goods and Services Tax Council वस्तु एवं सेवा कर परिषद्

राज्य FASTER SYSTEM के लिए इंटरनेट सुविधाओं की उपलब्धता सुनिश्चित करें

 19 राज्यों ने जेलों में इंटरनेट सुविधा की उपलब्धता के संबंध में अनुपालन रिपोर्ट/शपथपत्र प्रस्तुत किए हैं।
 आदेश में कहा गया है कि, “अरुणाचल प्रदेश, नागालैंड, असम और मिजोरम राज्यों ने इंटरनेट कनेक्टिविटी की अनुपलब्धता/आंशिक उपलब्धता का संकेत दिया है। बाकी राज्यों ने इस संबंध में हलफनामा दाखिल नहीं किया है। हम सभी राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों के मुख्य सचिवों को यह सुनिश्चित करने का निर्देश देते हैं।  अपने संबंधित राज्यों/संघ राज्य क्षेत्रों में प्रत्येक जेल में पर्याप्त गति के साथ इंटरनेट सुविधाओं की उपलब्धता और जहां कहीं भी इंटरनेट सुविधाएं उपलब्ध नहीं हैं, वहां शीघ्रता से इंटरनेट सुविधाओं की व्यवस्था करने के लिए आवश्यक कदम उठाएं। तब तक, नोडल अधिकारियों के माध्यम से संचार किया जाएगा।  राज्य सरकारें तेजी से प्रणाली के तहत। महानिदेशक, राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केंद्र, सभी राज्यों / केंद्र शासित प्रदेशों के सचिव (गृह) और सभी राज्यों / केंद्र शासित प्रदेशों के महानिदेशक / महानिरीक्षक कारागार के सुचारू और सफल कार्यान्वयन को सुनिश्चित करेंगे।  तेजी से प्रणाली और इस संबंध में इस न्यायालय की रजिस्ट्री के साथ समन्वय करेगी”, 

किस वजह से हुई FASTER SYSTEM की शुरुआत

 16 जुलाई को, इस मुद्दे पर स्वत: संज्ञान लेते हुए, CJI की अगुवाई वाली एक पीठ ने पिछले अवसर पर कहा था कि सुप्रीम कोर्ट जेलों में जमानत के आदेशों को इलेक्ट्रॉनिक रूप से प्रसारित करने के लिए एक प्रणाली को लागू करने के बारे में सोच रहा था ताकि जमानत पर कैदियों की रिहाई में कोई विलंब नहीं हो। 
 स्वत: संज्ञान लेने का मामला एक समाचार रिपोर्ट से प्रेरित था जिसमें कहा गया था कि आगरा सेंट्रल जेल में बंद दोषियों को जमानत देने के आदेश के 3 दिन बाद भी उनको रिहा नहीं किया गया था। 
 पीठ ने राज्य सरकारों/केंद्र शासित प्रदेशों से यह ब्योरा पूछा था कि क्या उनकी जेलों में कुशल इंटरनेट सुविधाएं उपलब्ध हैं। यदि नहीं, तो राज्यों को निर्देश दिया गया था कि यदि कोई विकल्प हो तो सुझाव दें।
 बेंच ने सुप्रीम कोर्ट के महासचिव को दो सप्ताह के भीतर FASTER SYSTEM को लागू करने के तौर-तरीकों का सुझाव देते हुए एक प्रस्ताव प्रस्तुत करने का भी निर्देश दिया था।
 इस संबंध में महासचिव को एमिकस क्यूरी, श्री दुष्यंत दवे, वरिष्ठ वकील, श्री तुषार मेहता, भारत के सॉलिसिटर जनरल, राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केंद्र या अन्य सरकारी प्राधिकरणों के साथ समन्वय/परामर्श करने का निर्देश दिया गया था।
 

Leave a Comment

करोड़पति बनकर होना चाहते हैं रिटायर तो ऐसे करें निवेश? FIFA World Cup में नोरा फतेही के साथ हुई बदतमीजी और छेड़खानी? कई देशों के GDP के बराबर है FIFA World Cup टीमों की मार्केट वैल्यू बिग बॉस के वो सदस्‍य जो लाइव शो में हुए इंटिमेट और सारी हदें पार की? तो इस कारण से अक्षय कुमार ने ‘हेराफेरी 3’ फिल्म करने से मना किया
करोड़पति बनकर होना चाहते हैं रिटायर तो ऐसे करें निवेश? FIFA World Cup में नोरा फतेही के साथ हुई बदतमीजी और छेड़खानी? कई देशों के GDP के बराबर है FIFA World Cup टीमों की मार्केट वैल्यू बिग बॉस के वो सदस्‍य जो लाइव शो में हुए इंटिमेट और सारी हदें पार की? तो इस कारण से अक्षय कुमार ने ‘हेराफेरी 3’ फिल्म करने से मना किया