International Childhood Cancer Day 2022 | अंतर्राष्ट्रीय बाल्यावस्था कैंसर दिवस 2022

अंतर्राष्ट्रीय बाल्यावस्था कैंसर दिवस के लिए 2022 में शुरू किए गए तीन अभियानों के हिस्से के रूप में, इस वर्ष की थीम है ‘Better Survival’ is achievable

अंतर्राष्ट्रीय बाल्यावस्था कैंसर दिवस 2022

International Childhood Cancer Day
International Childhood Cancer Day

बच्चों में इस घातक बीमारी के खतरे और प्रभाव को उजागर करने के लिए हर साल अंतर्राष्ट्रीय बाल्यावस्था कैंसर दिवस (आईसीसीडी) के रूप में मनाया जाता है। हर साल 20 साल से कम उम्र के 4 लाख से ज्यादा बच्चों और किशोरों में कैंसर का पता चलता है। जबकि कुछ High Income वाले देशों में उनके बचने की संभावना 80 प्रतिशत के करीब है, Low Income वाले देशों के ऐसे रोगियों के जीवित रहने की दर 20 प्रतिशत से भी कम है।

कब मनाया जाता है अंतर्राष्ट्रीय बाल्यावस्था कैंसर दिवस ( When is National childhood cancer Day)

हर साल 15 फरवरी को पूरे विश्व में अंतर्राष्ट्रीय बाल्यावस्था कैंसर दिवस पूरे उत्साह के साथ मनाया जाता है, और ज्यादा से ज्यादा लोगों को बच्चों में होने वाली इस घातक बीमारी के बारे में जागरूक करने का प्रयास किया जाता है।

अंतर्राष्ट्रीय बाल्यावस्था कैंसर दिवस का इतिहास

अंतर्राष्ट्रीय बाल्यावस्था कैंसर दिवस पहली बार 2002 में चाइल्डहुड कैंसर इंटरनेशनल (CCI) द्वारा मनाया गया था, जो 170 से अधिक संगठनों, कैंसर आउटरीच कार्यक्रमों, कैंसर संस्थानों और बाल चिकित्सा कैंसर से बचे संगठनों का एक नेटवर्क है। ICCD कैंसर से पीड़ित बच्चों को उनके स्थान, जातीयता और सामाजिक आर्थिक पृष्ठभूमि की सीमा की परवाह किए बिना बेहतरीन चिकित्सा और मनोवैज्ञानिक उपचार उपलब्ध कराने का प्रयास करता है।

अंतर्राष्ट्रीय बाल्यावस्था कैंसर दिवस का महत्व

यह दिवस हर साल 15 फरवरी को मनाया जाता है, अंतर्राष्ट्रीय बाल्यावस्था कैंसर दिवस (ICCD) को बच्चों में कैंसर के बारे में जागरूकता बढ़ाने और किशोरों के लिए समर्थन व्यक्त करने के लिए एक दिन के रूप में मनाया जाता है, जो बच्चे या तो कैंसर से पीड़ित हैं या बीमारी से बच गए हैं, और उनके परिवार वालों को इस बीमारी के प्रति जागरूक करना ही इसका प्रमुख उद्देश्य है।

भारत में बाल्यावस्था कैंसर का प्रभाव (Impact of Childhood Cancer in India)

इंडियन जर्नल ऑफ मेडिकल एंड पीडियाट्रिक ऑन्कोलॉजी के 2017 के एक अध्ययन के आंकड़ों के अनुसार, भारत में 0 से 19 वर्ष के आयु वर्ग के लगभग 50,000 बच्चों, किशोरों के हर साल इस बीमारी के शिकार होने की संभावना है। देश में बच्चों में होने वाली मौतों का 9वां सबसे बड़ा कारण बाल्यावस्था में होने वाला कैंसर है।

अंतर्राष्ट्रीय बाल्यावस्था कैंसर दिवस 2022 की थीम (theme of International childhood cancer day 2022)

ICCD के लिए 2021 में शुरू किए गए तीन अभियानों के हिस्से के रूप में, इस वर्ष की थीम ‘बेहतर जीवन रक्षा’ है, जिसे हासिल किया जा सकता है। इसका उद्देश्य कैंसर से पीड़ित बच्चों और किशोरों के जीवन में सकारात्मक प्रभाव लाने के लिए चिकित्सा टीम और स्वास्थ्य देखभाल कर्मियों के प्रयासों को श्रद्धांजलि देना है। थीम को डब्ल्यूएचओ ग्लोबल इनिशिएटिव फॉर चाइल्डहुड कैंसर (जीआईसीसी) के साथ जोड़ा गया है। पिछले साल, कैंसर से पीड़ित बच्चों और किशोरों की बहादुरी, साहस और लचीलेपन का जश्न मनाने के लिए #थ्रूहैंड्स की थीम के तहत ICCD 2021 को मनाया गया था।

बाल्यावस्था में होने वाले कैंसर से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण तथ्य (Some important facts related to cancer in childhood)

• कैंसर दुनिया भर में बच्चों और किशोरों में मृत्यु के प्रमुख कारणों में से एक है; प्रत्येक वर्ष 0-19 आयु वर्ग के लगभग 280,000 बच्चों में कैंसर का निदान किया जाता है।

• लैटिन अमेरिका और कैरिबियन में, यह अनुमान लगाया गया है कि 19 वर्ष से कम आयु के कम से कम 29, 000 बच्चे और किशोर सालाना कैंसर से प्रभावित होंगे। इनमें से करीब 10,000 लोग इस बीमारी से मर जाएंगे।

• उच्च आय वाले देशों में, कैंसर से पीड़ित 80% से अधिक बच्चे ठीक हो जाते हैं, लेकिन कई निम्न और मध्यम आय वाले देशों में इलाज की दर लगभग 20% है।

•बाल्यावस्था के कैंसर का प्रभाव जीवन के वर्षों के खो जाने, अधिक महत्वपूर्ण असमानताओं और आर्थिक कठिनाइयों में बदल जाता है। यह स्थिति बदल सकती है और बदलनी भी चाहिए, अगर हम मिल कर प्रयास करेंगे।

बच्चों में होने वाले कैंसर के सामान्य लक्षण (Common symptoms of cancer in children)

“कैंसर अक्सर सामान्य वायरल बीमारियों के समान गैर-विशिष्ट लक्षणों के साथ होता है, इसलिए सही समय पर इसका पता नहीं चल पाता है और इसका इलाज उचित समय पर नहीं उपलब्ध हो पाता है। इसलिए सभी माता पिता को अपने बच्चों में होने वाले कुछ लक्षणों के बारे में जानना बहुत ही जरूरी होता है-

• बिना किसी कारण के लंबे समय तक बुखार का होना।

• शरीर पर स्पष्ट न दिखने वाला पीलापन।

• अगर बच्चा अस्वस्थ है और वह चलने से मना करता है, या हमेशा अपने बेड से नीचे नहीं आता है।

• पल्पेबल लिम्फ नोड्स जब लिम्फ नोड्स आकार में बढ़ जाते हैं तो उन्हें बढ़े हुए लिम्फ नोड्स कहा जाता है। वे गर्दन, बगल और कमर में हो सकते हैं।

इस प्रकार के कई अन्य लक्षणों को अपने बच्चों में देखने पर तुरंत ही चिकित्सक से संपर्क करें और अपने बच्चों को कैंसर जैसी भयावह बीमारी होने से बचायें।

ये भी पढें:- 

विश्व गुलाब दिवस

विश्व फार्मासिस्ट दिवस

अन्तराष्ट्रीय योग दिवस 

Leave a Comment

बिग बॉस 16 के इस कंटेस्टेंट को देना होगा 2 करोड का जुर्माना? जब हनुमान जी के भय से शनिदेव को बनना पड़ा स्त्री? करोड़पति बनकर होना चाहते हैं रिटायर तो ऐसे करें निवेश? FIFA World Cup में नोरा फतेही के साथ हुई बदतमीजी और छेड़खानी? कई देशों के GDP के बराबर है FIFA World Cup टीमों की मार्केट वैल्यू
बिग बॉस 16 के इस कंटेस्टेंट को देना होगा 2 करोड का जुर्माना? जब हनुमान जी के भय से शनिदेव को बनना पड़ा स्त्री? करोड़पति बनकर होना चाहते हैं रिटायर तो ऐसे करें निवेश? FIFA World Cup में नोरा फतेही के साथ हुई बदतमीजी और छेड़खानी? कई देशों के GDP के बराबर है FIFA World Cup टीमों की मार्केट वैल्यू