Pharmacist Day 2021 डेट, महत्व, इतिहास और भारतीय फार्मेसी के जनक

 विश्व फार्मासिस्ट दिवस 2021 (World Pharmacist day 2021 ) 

World Pharmacist Day 2021
World Pharmacist Day 2021

 क्या हम बिना फार्मेसी और Pharmacist के इस दुनिया की कल्पना भी कर सकते हैं, निश्चित रूप से नहीं। हम जिस दुनिया में रह रहे हैं, वह उनके जीवन में फार्मेसी क्षेत्र की भागीदारी के बिना एक इंच भी आगे नहीं बढ़ सकती है। प्रत्येक व्यक्ति अपने जीवन के किसी न किसी मोड़ पर फार्मासिस्ट की मदद लेता है। प्राचीन काल से आधुनिक दुनिया को भूल जाओ और उससे पहले, चिकित्सा पेशेवरों की अवधारणा और योगदान हमेशा हमारी धार्मिक पुस्तकों से लेकर आधुनिक जीव विज्ञान और वैज्ञानिक पुस्तकों तक रहा है। चिकित्सा क्षेत्र को हमेशा मानव जाति और पृथ्वी के भगवान जैसे पेशेवरों के लिए एक वरदान के रूप में माना गया है। 

हर साल 25 सितंबर को World Pharmacist Day वैश्विक स्तर पर मनाया जाता है।  फार्मासिस्ट या जिसे हम आमतौर पर केमिस्ट या ड्रगिस्ट कहते हैं, वे महत्वपूर्ण चिकित्सा पेशेवर हैं जो बहुत अप्रत्याशित तरीके से हमारी मदद करते हैं।  बहुत से लोग उनके योगदान को नज़रअंदाज़ कर देते हैं या अक्सर नज़रअंदाज़ करने की कोशिश करते हैं, लेकिन उन्हें यह कभी नहीं भूलना चाहिए कि ये लोग जितना धैर्य, ज्ञान और समझ हासिल करते हैं, वह शायद ही कोई और हासिल कर सकता है।  वे प्रभावी, उच्च गुणवत्ता वाली दवाओं तक सुरक्षित और सस्ती पहुंच प्राप्त करने में हमारी सहायता करते हैं।  वे स्वास्थ्य प्रौद्योगिकियों और दवा सुविधाओं के क्षेत्र में भी समाज को सहायता प्रदान करते हैं।  इसलिए, यह हमारा कर्तव्य है कि हम इन अग्रिम पंक्ति के कार्यकर्ताओं को बढ़ावा दें और प्रोत्साहित करें जो बिना किसी को उनकी जाति, जाति, पंथ और धर्म के आधार पर हमेशा मदद करते हैं।

विश्व फार्मासिस्ट दिवस का इतिहास: कब और क्यों मनाया जाता है (History of World Pharmacist Day: When and Why is it Celebrated) 

बच्चों और जिज्ञासु मनों में यह एक सामान्य और अक्सर पूछे जाने वाला प्रश्न है कि 25 सितंबर को ही क्यों मनाया जाता है (why world pharmacist day is celebrated on 25 september) किसी अन्य दिन नहीं। इसके पीछे का कारण यह है कि 25 सितंबर, 1912 को इंटरनेशनल फार्मास्युटिकल फेडरेशन (FIP) की स्थापना हुई थी। यह फार्मासिस्टों और दवा वैज्ञानिकों के राष्ट्रीय संघों का एक वैश्विक संघ है। 2009 में, तुर्की के इस्तांबुल में एफआईपी परिषद ने प्रस्ताव दिया कि फार्मेसी क्षेत्र को बढ़ावा देने और प्रोत्साहित करने के लिए हर साल 25 सितंबर को फार्मासिस्ट दिवस मनाया जाना चाहिए, क्योंकि यह दिन एफआईपी की स्थापना की वर्षगांठ को भी चिह्नित करेगा। इनके महत्व को उल्लेखनीय बनाने के लिए ही हम हर साल pharmacist day मनाते हैं। 

इसको भी पढ़ें:- विश्व गुलाब दिवस 2021

इंटरनेशनल फ़ार्मास्यूटिकल फ़ेडरेशन

 नीदरलैंड में अपने मुख्यालय के साथ, 1912 में स्थापित किया गया। अंतर्राष्ट्रीय फ़ार्मास्यूटिकल फ़ेडरेशन एक अंतर्राष्ट्रीय निकाय है जो फ़ार्मास्यूटिकल विज्ञान और शिक्षा के शासी और प्रतिनिधित्व निकाय के रूप में कार्य करने का प्रभारी है। दुनिया भर में लाखों फार्मासिस्ट, फार्मास्युटिकल वैज्ञानिक और फार्मास्युटिकल शिक्षक इस संघ के तहत 144 राष्ट्रीय संगठनों, शैक्षणिक संस्थानों के सदस्यों द्वारा प्रतिनिधित्व करते हैं।
 एफआईपी सक्रिय रूप से भाग लेता है और क्रमशः फार्मेसी क्षेत्र, उत्पादन और दवा के सुधार से संबंधित मुद्दों की देख-रेख करता है। इसके संबद्ध सदस्य और स्वयंसेवक वैश्विक औषधीय प्रथाओं और उत्पादन के प्रभाव पर नजर रखते हैं। वे सुनिश्चित करते हैं कि अपनाई गई प्रक्रिया सही है और किसी भी सुधार की आवश्यकता होने पर वे समस्या को हल करने की जिम्मेदारी लेते हैं। दुनिया भर में फेडरेशन के तहत विभिन्न परियोजनाएं और प्रथाएं चलती हैं।

विश्व फार्मासिस्ट दिवस का महत्व (Significance of World Pharmacist Day) 

 इस समय तक, हम सभी जानते हैं कि pharmacist का काम कितना महत्वपूर्ण है और विश्व स्तर पर इसका कितना महत्व है। इस समय भी जब दुनिया महामारी से बुरी तरह पीड़ित है, जहां जनता को अपने घर से बाहर निकलने का डर है, ये वीर 24 * 7 ड्यूटी पर हैं, बिना अपनी जान की परवाह किए और एक ही समय में लाखों लोगों की जान बचाई। वे अग्रिम पंक्ति के कार्यकर्ता हैैं, जिनकी सराहना हम सभी को 
मिलकर करनी चाहिए। इनमें और डॉक्टरों के बीच मुख्य अंतर यह है कि डॉक्टर आपको तत्काल उपलब्ध नहीं हो सकते हैं, जबकि आपात स्थिति और तत्काल सहायता के समय, pharmacist सही समय पर सही दवाएं लिखकर तत्काल आपकी सेवा में उपलब्ध रहते हैं, और आपके जीवन की रक्षा करते हैं। 

इसको भी पढ़ें:-दो से अधिक बच्चे होने पर सरकारी नौकरी नहीं, सब्सिडी नहीं

फार्मासिस्ट क्या करता है?

 वे सही दवा प्रदान करके पहले रोगी की सुरक्षा सुनिश्चित करते हैं, वे यह सुनिश्चित करते हैं कि जगह की स्वच्छता अच्छी तरह से बनी रहे क्योंकि इससे रोगी को बेचैनी हो सकती है। सुनिश्चित करें कि दवा की गुणवत्ता सही हो। निर्धारित दवा के साथ अपनी बहुमूल्य सलाह दें और यह भी जांचें कि दवा रोगी के स्वास्थ्य के अनुकूल है या नहीं।
 प्राथमिक लक्ष्य यह सुनिश्चित करके रोगी देखभाल में सुधार करना है कि औषधीय सामानों का प्रभावी ढंग से उपयोग किया जाता है। चिकित्सा दल के सदस्य के रूप में pharmacists का मूल्य बढ़ाना।

विश्व फार्मासिस्ट दिवस 2021 की थीम (World Pharmacist day 2021 theme) 

 इस वर्ष की थीम “pharmacist: हमेशा आपके स्वास्थ्य के लिए भरोसेमंद” है, इसे थीम के रूप में चुनने का कारण बहुत गहरा है।  यह सब ट्रस्ट के बारे में है।  विश्वास हर रिश्ते में एक महत्वपूर्ण कारक है, चाहे वह व्यक्तिगत हो या पेशेवर।  इसी तरह एक फार्मासिस्ट और एक मरीज के बीच का विश्वास भी उतना ही काबिले तारीफ है।  जब आप किसी पर भरोसा करेंगे तभी आप उनके दिखाए गए रास्ते पर चलेंगे और महामारी के समय में हर जगह लोगों ने अपने केमिस्ट द्वारा दी गई सलाह पर आंख मूंदकर भरोसा कर लिया क्योंकि उन्हें विश्वास था कि उनकी सलाह व्यर्थ नहीं जाएगी।  स्वास्थ्य कर्मियों और उनके स्वास्थ्य परिणामों में रोगियों के विश्वास के बीच एक संबंध है।

इसको भी पढ़ें:- National Doctors’ Day 2021 तिथि

भारतीय फार्मेसी के जनक (Father of Indian Pharmacy) 

 प्रोफेसर महादेव लाल श्रॉफ को भारतीय फार्मेसी के जनक के रूप में नामित किया गया है।  फार्मेसी के क्षेत्र में उनका योगदान अतुलनीय था।  वह बनारस हिंदू विश्वविद्यालय में Pharmaci के लिए 3 साल का पाठ्यक्रम शुरू करने वाले थे, जिसे अब भारत के हर सार्वजनिक और निजी विश्वविद्यालयों में अपनाया जाता है।  बिहार के दरभंगा के एक छोटे से कस्बे में जन्मे प्रो.  श्रॉफ ने अपनी स्कूली शिक्षा भागलपुर से पूरी की।  अपनी शिक्षा के लिए, उन्होंने बनारस हिंदू विश्वविद्यालय के इंजीनियरिंग कॉलेज में दाखिला लिया, और 1921  में बीएचयू में स्वामी सत्य देव की प्रस्तुति से प्रभावित थे। इसके बाद वह अमेरिका में अध्ययन करने गए जहां उन्होंने 1922 में आयोवा में बी.एससी.  केमिकल इंजीनियरिंग में और प्रतिष्ठित छात्रवृत्ति से सम्मानित किया गया। pharmacist day
प्रो. श्रॉफ, जिनकी रासायनिक प्रौद्योगिकी की पृष्ठभूमि थी, ने पं. एम.एम. मालवीय जी ने 1932 में बीएचयू में फार्मास्युटिकल साइंसेज की एक अलग शाखा (डिवीजन) स्थापित करने के लिए। प्राप्त करने के बाद, उन्होंने आश्वस्त किया, फिर उन्होंने प्रो. श्रॉफ को एक कदम आगे बढ़ने और फार्मेसी को अलग विषय के रूप में पेश करने की अनुमति दी।
 दिसंबर 1935 में, यूनाइटेड प्रोविंस फार्मा एसोसिएशन की स्थापना की गई, जो 1939 में उत्तर प्रदेश की सीमाओं से परे तेजी से विस्तारित हुई और 1939 में देश भर में शाखाओं के साथ इंडियन फार्मास्युटिकल एसोसिएशन बन गई। वह इंडियन जर्नल ऑफ़ फ़ार्मेसी के संस्थापक संपादक थे, जिसे जनवरी 1939 में बनाया गया था।
happy world pharmacist day 201

Leave a Comment

करोड़पति बनकर होना चाहते हैं रिटायर तो ऐसे करें निवेश? FIFA World Cup में नोरा फतेही के साथ हुई बदतमीजी और छेड़खानी? कई देशों के GDP के बराबर है FIFA World Cup टीमों की मार्केट वैल्यू बिग बॉस के वो सदस्‍य जो लाइव शो में हुए इंटिमेट और सारी हदें पार की? तो इस कारण से अक्षय कुमार ने ‘हेराफेरी 3’ फिल्म करने से मना किया
करोड़पति बनकर होना चाहते हैं रिटायर तो ऐसे करें निवेश? FIFA World Cup में नोरा फतेही के साथ हुई बदतमीजी और छेड़खानी? कई देशों के GDP के बराबर है FIFA World Cup टीमों की मार्केट वैल्यू बिग बॉस के वो सदस्‍य जो लाइव शो में हुए इंटिमेट और सारी हदें पार की? तो इस कारण से अक्षय कुमार ने ‘हेराफेरी 3’ फिल्म करने से मना किया