Holi 2022, Holika dahan 2022 in Hindi आखिर क्यूँ मनाई जाती है होली

रंगों का त्योहार कहे जाने वाले होली के आते ही माहौल भी रंगीन हो जाता है। हर कोई इस त्योहार का इंतजार बेसब्री से करता है। होली के त्योहार में जश्न का अपना ही एक मजा होता है।

 होलिका दहन 2022 (Holika dahan 2022) 

Holika dahan 2021 in Hindi
Holika dahan 2022 in Hindi 
 
इस साल होली  Holi 2022 का त्यौहार 29 मार्च को मनाया जा रहा है। हिंदू कैलेंडर के अनुसार हर साल होली का त्यौहार  नये साल के, पहले महीने के, पहले दिन ही मनाया जाता है। और हर साल होलिका दहन Holika dahan 2022  होली के एक दिन पूर्व ही मनाया जाता है। तो इस प्रकार इस साल होलिका दहन Holika dahan 2021 28 मार्च को मनाया जायेगा। 
 

होलिका दहन 2022 का मूहूर्त (Holika dahan 2022 Muhurta)

हर साल होलिका दहन holika dahan time को किसी शुभमुहूर्त में करने की सलाह पंडित लोग देते हैं, इस बार की होलिका दहन 2022 का समय होलिका दहन 17 बृहस्पतिवार, मार्च 17, 2022 को किया जाएगा.  इस साल होलिका  दहन का शुभ मुहूर्त रात में 9 बजकर 16 मिनट से लेकर 10 बजकर 16 मिनट तक ही रहेगा
 

होलिका दहन के पीछे क्या है कहानी (What is the story behind holika dahan story)

होलिका और प्रहलाद की कहानी इस प्रकार है। एक राक्षस राजा था जो हिरण्यकश्यप के नाम से जाना जाता था। जो पृृृृथ्वी पर राज्य करता था। वह इतना घमंडी था कि उसने सभी को केवल उसकी पूजा करने का आदेश दिया। 
 
लेकिन उनकी महान निराशा का कारण उनकी अपनी संतान थी, उनके बेटे प्रहलाद भगवान नारायण के उत्साही भक्त बन गए और अपने पिता की पूजा करने से इनकार कर दिया। हिरण्यकश्यप ने अपने पुत्र प्रहलाद को मारने के कई तरीकों से कोशिश की लेकिन, भगवान विष्णु ने उन्हें हर बार बचाया। 
 
अंत में, उसने अपनी बहन, होलिका से प्रहलाद prahlad के साथ अपनी गोद में लेकर आग में प्रवेश करने के लिए कहा। हिरण्यकश्यप को पता था कि होलिका के पास ऐसा वरदान था, जिससे वह आग में प्रवेश कर सकती थी। और आग उसको जला नहीं सकती थी। होलिका ने युवा प्रहलाद प्रहलाद prahlad को अपनी गोद में बैठने के लिए मजबूर कर दिया और उसने खुद जहाँ पर बैठी उसको एक चमकदार आग में बदल लिया।
 
 कहानी यह है कि होलिका Holika को अपने जीवन से उसकी भयावह इच्छा की कीमत चुकानी पड़ी। होलिका को पता नहीं था कि वरदान केवल तभी काम करता था जब वह अकेले आग में प्रवेश करती थी। प्रहलाद, जिन्होंने यह सब भगवान नारायण के नाम का जाप करते हुए किया, क्योंकि भगवान ने उसे अपनी अत्यधिक भक्ति के लिए आशीर्वाद दिया था। और इस प्रकार होलिका उसी आग में जलकर भस्म हो गई, और एक बार फिर से भगवान विष्णु ने प्रहलाद की रक्षा की और इस प्रकार से, होली के त्यौहार ने Holi 2022  ने होलिका से अपना नाम प्राप्त किया।
 

 होलिका दहन का महत्व 2022 (Importance of Holika Dahan 2022)

बुराई पर अच्छाई की जीत के त्यौहार के रूप में मनाया जाने लगा। होली को एक भक्त की जीत के रूप में भी मनाया जाता है। चूंकि किंवदंती दर्शाती है कि कोई भी, जो भी मजबूत है, एक सच्चे भक्त को नुकसान नहीं पहुंचा सकता है। और, जो लोग परमेश्वर के एक सच्चे भक्त को यातना देने की हिम्मत करते हैं उन्हें राख उनकी राख तक नसीब नहीं होती है। 
 
इस कहानी का उत्सव आज भी बुराई पर अच्छाई की जीत को चिह्नित करने के लिए हर साल ‘होलिका Holika के जलने के लिए राख’ के दृश्य को दिखाया जाता है। भारत के कई राज्यों में, विशेष रूप से उत्तर में, होलिका की आग में गायों के गोबर सेे बने उपले को फेंकने और होलिका Holika में अप्रतिशीताओं को चिल्लाकर दूर करने की भी है प्रथा है। तब हर जगह होली-है! होली-हाई! ‘। गुजरात और उड़ीसा में ‘होलिका’ Holika जलाने की परंपरा को भी धार्मिक रूप से पालन किया जाता है। यहां, लोग अग्नि के प्रति आभार व्यक्त करते हैं, जो कि सभी नम्रता के साथ फसल से ग्राम और डंठल की पेशकश करके आग के देवता को प्रस्तुत करते हैं। 
 
इसके अलावा, होली Holi 2022 in Hindi के आखिरी दिन, लोगों को अपने घरों में बोनफायर से थोड़ी सी आग लगानी होती है। ऐसा माना जाता है कि इस प्रथा  का पालन करके उनके घरों को शुद्ध किया जाएगा और उनके शरीर रोग से मुक्त होंगे। कई स्थानों पर घरों की सफाई करने, घर के चारों ओर से सभी गंदे लेखों को हटाने और उन्हें जलाने की परंपरा भी होती है। रोग-प्रजनन बैक्टीरिया को नष्ट कर दिया जाता है और इलाके की स्वच्छता की स्थिति में सुधार किया जाता है।
 
लेकिन इस साल कोरोना की वजह से सरकारों ने कई चेतावनी भी जारी की है कि, लोग किसी भी एक निश्चित स्थान पर इकट्ठा होने से बचे। और कोरोना नियमों का पालन सही तरीके से करें। और आप सब को इस साल होलिका दहन 2022 Holika dahan 2022 in Hindi को बड़ी ही सावधानी पूर्वक मनाना होगा। 
 

FAQ-

Q- Holika dahan कब है 2022?

Ans- होलिका दहन 17 मार्च, भद्रा पूंछ में होलिका दहन का समय रात 09 बजकर 06 मिनट से लेकर 10 बजकर 16 मिनट तक रहेगी।

Q- होली क्यों जलाई जाती?

Ans- हिरण्यकशिपु की बहन होलिका को वरदान प्राप्त था कि वह आग में भस्म नहीं हो सकती। हिरण्यकशिपु ने आदेश दिया कि होलिका प्रह्लाद को गोद में लेकर आग में बैठे। आग में बैठने पर होलिका तो जल गई, पर प्रह्लाद बच गया। ईश्वर भक्त प्रह्लाद की याद में इस दिन होली जलाई जाती है।

Q- होली के दिन किसकी पूजा की जाती है?

Ans- प्रहलाद को बचाने की प्रार्थना के रूप में प्रारंभ हुई घर-घर की अग्नि पूजा ने कालक्रमानुसार सामुदायिक पूजा का रूप लिया और उससे ही गली-गली में होलिका की पूजा प्रारंभ हुई। धन-धान्य की देवी संपदाजी का पूजन होली के दूसरे दिन किया जाता है।

Q- होलिका पूजन कैसे होता है?

Ans- कच्चे सूत को होलिका के चारों ओर तीन या सात परिक्रमा करते हुए लपेटना होता है। फिर लोटे का शुद्ध जल व अन्य पूजन की सभी वस्तुओं को एक-एक करके होलिका को समर्पित किया जाता है।

Leave a Comment

बिग बॉस 16 के इस कंटेस्टेंट को देना होगा 2 करोड का जुर्माना? जब हनुमान जी के भय से शनिदेव को बनना पड़ा स्त्री? करोड़पति बनकर होना चाहते हैं रिटायर तो ऐसे करें निवेश? FIFA World Cup में नोरा फतेही के साथ हुई बदतमीजी और छेड़खानी? कई देशों के GDP के बराबर है FIFA World Cup टीमों की मार्केट वैल्यू
बिग बॉस 16 के इस कंटेस्टेंट को देना होगा 2 करोड का जुर्माना? जब हनुमान जी के भय से शनिदेव को बनना पड़ा स्त्री? करोड़पति बनकर होना चाहते हैं रिटायर तो ऐसे करें निवेश? FIFA World Cup में नोरा फतेही के साथ हुई बदतमीजी और छेड़खानी? कई देशों के GDP के बराबर है FIFA World Cup टीमों की मार्केट वैल्यू