क्यूँ दुनिया के देश चीन को कोस रहे हैं?

कोरोना पर चीन के खिलाफ उठती आवाज.

विश्व में चीन को लेकर हर जगह विरोध की आवाज उठने लगी है दुनिया के कई देशों का यह मानना है कि कोरोना वायरस को चीन ने दुनिया से छिपाया और दुनिया को इस महामारी की जानकारी तब दी जब यह वायरस पूरी दुनिया में फैल चुका था इसलिए विश्व के कई देश उससे नाराज हैं। और  इन देशों का यह भी मानना है कि चीन अपने यहाँ मरने वालों की संख्या को भी दुनिया से छुपा रहा है। ऑस्ट्रेलियाई के प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरीसन ने विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) और संयुक्त राष्ट्र से चीन के ‘वेट मार्केट’ के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए इन दोनों संस्थाओं से अपील की है, क्योंकि ऑस्ट्रेलिया का कहना है कि ये मार्केट विश्व के अन्य देशों के स्वास्थ्य के लिए बहुत ही खतरा उत्पन्न करते हैं। विश्व के कई विशेषज्ञों का यह भी मानना है कि तीन के इन्हीं बाजारों से इस घातक कोरोना वायरस ने जन्म लिया है।

                                                     चीन के शहर वुहान से ही पिछले साल दिसंबर में शुरू हुए कोरोना वायरस का स्त्रोत भी इन्हीं वेट मार्केट को माना जा रहा है। यह वायरस जानवरों से इंसान में फैला है। वेट मार्केट का बाजार उन्हें कहा जाता है जहाँ ताजा मीट, मछली या जल्द सड़ने वाला सामान बेचा जाता है। इन बाजारों में जंगली जानवर और कई वन्यजीव उत्पाद की बिक्री होती है। 
      मॉरीसन ने कहा कि चीन में वेट मार्केट जहाँ कहीं भी चल रहे हैं वे बहुत ही बड़ी समस्या हैं। उन्होंने ने कहा कि यह वायरस यहीं से फैला और पूरी दुनिया को अपनी जद में ले लिया। उन्होंने लिए स्वास्थ्य संगठन को इसके बारे में कुछ करने का आग्रह किया। और उन्होंने कहा कि विश्व के अन्य हिस्सों में स्थित स्वास्थ्य व कुशलता पर बड़ा खतरा न उत्पन्न हो इसके लिए वे ऐसे स्थानों और केंद्रों पर वैश्विक संगठनों द्वारा ध्यान केंद्रित करने के अपने रूख को दोहराये। 
            वहीं दूसरी और भारतीय मूल की अमेरिकी नेता निक्की हेली ने कोरोना वायरस संक्रमण के मामलों संबंधित चीन के आधिकारिक आंकड़ों पर संदेह जताते हुए कहा कि स्पष्ट रूप से ये सही आंकड़े नहीं हैं। 
                            उन्होंने यह बात सीआईए के द्वारा व्हाइट हाउस को दिये गये खुफिया जानकारी के बाद कहाँ जिसमें यह कहा गया है कि अमेरिका चीन द्वारा दिये गये आंकड़ों पर भरोसा न करे। वहीं राष्ट्रपति ट्रंप ने भी पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि उन्हें चीन के आंकडों पर भरोसा नहीं है। संयुक्त राष्ट्र में अमेरिका की पूर्व राजदूत हेली ने  कहा कि चीन जिसकी आबादी 1.5 अरब है कोरोना वायरस के केवल 82,000 मामले आए और सिर्फ 3,300 लोगों की मौत हुई। यह साफ तौर पर सच नहीं है। अमेरिका में संक्रमित लोगों की संख्या इस समय 2,40,000 के पार चली गई है इस महामारी से मरने वालों की संख्या 5,800 से ज्यादा हो चुकी है। इससे साफ होता है कि चीन जहाँ से इस वायरस की शुरूआत हुई है वहाँ पर संक्रमण व मौत के इतने कम मामले कैसे हो सकते हैं इसलिए चीन बाकी दुनिया से अपने यहाँ मरने वालों की संख्या को कम बता रहा है। इसी तरह विश्व के कई देशों के नेताओं ने चीन के खिलाफ आवाज उठाना शुरू कर दिया है। 

Leave a Comment

करोड़पति बनकर होना चाहते हैं रिटायर तो ऐसे करें निवेश? FIFA World Cup में नोरा फतेही के साथ हुई बदतमीजी और छेड़खानी? कई देशों के GDP के बराबर है FIFA World Cup टीमों की मार्केट वैल्यू बिग बॉस के वो सदस्‍य जो लाइव शो में हुए इंटिमेट और सारी हदें पार की? तो इस कारण से अक्षय कुमार ने ‘हेराफेरी 3’ फिल्म करने से मना किया
करोड़पति बनकर होना चाहते हैं रिटायर तो ऐसे करें निवेश? FIFA World Cup में नोरा फतेही के साथ हुई बदतमीजी और छेड़खानी? कई देशों के GDP के बराबर है FIFA World Cup टीमों की मार्केट वैल्यू बिग बॉस के वो सदस्‍य जो लाइव शो में हुए इंटिमेट और सारी हदें पार की? तो इस कारण से अक्षय कुमार ने ‘हेराफेरी 3’ फिल्म करने से मना किया